Edition

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

UP Politics : भूपेंद्र सिंह चौधरी को उप्र अध्यक्ष बनाकर भाजपा ने चली सियासी चाल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भाजपा द्वारा बड़ी लम्बी कबायद और गहन चिंतन-मनन के बाद प्रदेश अध्यक्ष पर भूपेंद्र सिंह चौधरी की ताजपोशी कर एक तीर से कई निशाने साध विरोधियों और विपक्षियों के इरादे नेस्तनाबूद कर दिए हैं। साथ ही लोकसभा चुनाव 2024 की तस्वीर भी पेश कर दी है। बीजेपी आला कमान ने योगी सरकार में पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र चौधरी को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी ने जाट नेता को प्रदेश की कमान सौंपी है। भूपेंद्र चौधरी आरएसएस से भी जुड़े हुए हैं।

भूपेंद्र सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा ने क्षेत्रीय गांव को भी संतुलित किया है। अगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूर्वी उत्तर प्रदेश से आते हैं तो भाजपा अध्यक्ष पश्चिमी उत्तर प्रदेश से आते हैं। राज्य के दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और बृजेश पाठक मध्य उत्तर प्रदेश के हैं। पश्चिमी यूपी की 25 सीटों पर जाट समुदाय का प्रभाव है। भाजपा महासचिव अरुण सिंह की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भूपेंद्र सिंह जो कि उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य भी हैं, उन्हें राज्य में पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। यह नियुक्ति तत्काल प्रभाव से लागू होगी। जाट नेता चौधरी ने बुधवार शाम भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी।

आपको बता दें कि स्वतंत्र देव सिंह के मंत्री बनने और उनके इस्तीफे के बाद से ही यूपी प्रदेश अध्यक्ष का पद खाली चल रहा था। पिछले दिनों स्वतंत्र देव सिंह ने भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ऐसे में भाजपा के लिए प्रदेश की कमान सौंपने के साथ लोकसभा चुनाव 2024 की फतह आसानी से किए जाने की रणनीति पर कार्य शुरू हो गया है।

माना जा रहा है कि भूपेंद्र सिंह चौधरी के प्रदेश अध्यक्ष बनाने से भाजपा को जाट वोट बैंक हासिल करने में सहूलियत होगी। क्योंकि उप्र में जाटों और किसानों कि नाराजगी भाजपा झेल चुकी है और उसका खामियाजा भी उठा चुकी है। ऐसे में भाजपा के भूपेंद्र सिंह चौधरी मील का पत्थर साबित हो सकते हैं।

admin
Author: admin

5178
आपकी राय

क्या आप बाराबंकी के मौजूदा भाजपा सांसद उपेन्द्र सिंह रावत की कार्यशैली से संतुष्ट है?

और पढ़ें