Edition

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

बाराबंकी : यूपी में सपा-कांग्रेस का खेल बिगाड़ सकते है ओवैसी, शर्ते न मानी तो बाराबंकी समेत 25 सीटो पर उतारेंगे प्रत्याशी, इण्डिया गठबंधन को ओवैसी ने दिया अल्टीमेटम

 

बाराबंकी।
लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां के बीच राजनीतिक गलियारों से बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है। ख़बर के मुताबिक AIMIM और इण्डिया गठबंधन के बीच समझौता न होने पर यूपी में सपा और कांग्रेस का खेल बिगड़ सकता है। समझौता न होंने की सूरत में AIMIM न सिर्फ यूपी की 25 लोकसभा सीटो पर अपने प्रत्याशी उतार कर गठबंधन के लिए मुश्किलें खड़ी करेगी बल्कि AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ख़ुद भी यूपी से लोकसभा चुनाव लड़ सकते है। हालांकि ओवैसी यूपी की किस लोकसभा सीट पर प्रत्याशी होंगे इसका खुलासा नही किया गया है।

यह भी पढ़े – बाराबंकी :  बड़ागांव निवासी इक़बाल अज़ीज़ ने खेत मे उगाया 1.400 किलोग्राम वज़न का आलू,  सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही आलू की तस्वीरे

AIMIM के बाराबंकी जिला अध्यक्ष विकास श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए बताया कि AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी यूपी की 05 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि शीर्ष स्तर पर इसके लिए गठबंधन के नेताओ से बातचीत भी चल रही है। यूपी की जिन 05 लोकसभा सीटो की मांग AIMIM कर रही है उनमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश की संभल, मुरादाबाद, आंवला व नगीना और पूर्वी उत्तरप्रदेश की आज़मगढ़ लोकसभा सीट शामिल हैं। जिलाध्यक्ष ने बताया कि AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने साफ कर दिया है कि हमारे ऊपर बीजेपी को जिताने का आरोप लगाया जाता है। इसी लिए हमने चुनाव से पहले ही गठबंधन में शामिल होने का प्रस्ताव रख दिया है।इण्डिया गठबंधन का हिस्सा न बनाये जाने पर AIMIM न सिर्फ बाराबंकी समेत यूपी की 25 सीटो पर चुनाव लड़ेगी, बल्कि AIMIM चीफ और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ख़ुद भी यूपी की किसी लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में आ सकते हैं। हालांकि ओवैसी कहा से प्रत्याशी होंगे ये अभी स्पष्ट नही किया गया है। जिलाध्यक्ष ने बताया कि पार्टी दोनों परिस्थितियों के लिए तैयार है और गठबंधन में शामिल न किये जाने पर जिन लोकसभा सीटों पर प्रत्याशी उतारने है प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली उसकी सूची तैयार कर AIMIM चीफ को भेज चुके हैं।
रिपोर्ट – मन्सूफ अहमद / चौधरी उस्मान
5175
आपकी राय

क्या आप बाराबंकी के मौजूदा भाजपा सांसद उपेन्द्र सिंह रावत की कार्यशैली से संतुष्ट है?

और पढ़ें