Edition

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

बाराबंकी : दुल्हदेपुर गाँव मे भव्य कलश यात्रा के साथ श्रीमद्भागवत कथा का शुभारंभ किया गया।

 

रामसनेहीघाट-बाराबंकी।
तहसील रामसनेहीघाट के दुल्हदेपुर गाँव में द्वारिका प्रसाद के आवास पर श्रीमद्भागवत कथा का शुभरम्भ कलश यात्रा के साथ किया गया। कलश यात्रा पूरे गाँव से होते हुए तसीपुर गांव में बुढ़वा बाबा शिवमंदिर पर दर्शन करके कल्याणी नदी पर पहुची जहां से जल लेकर यात्रा पुनः कथा स्थल पहुंचकर संपन्न हुई। यात्रा में बड़ी संख्या में महिला श्रद्धालु पीत वस्त्र पहन कर व सिर पर कलश धारण कर शामिल हुई।

यह भी पढ़े – बाराबंकी : बेटी व भतीजी को स्कूल छोड़ने जा रहे बाइक सवार को तेज़ रफ्तार ट्रक ने रौंदा, हादसे में तीनों की दर्दनाक मौत

कथा का शुभारंभ करते हुए पूरे ब्राम्हण महुलारा गुरु आश्रम बड़ी छावनी श्रीधाम अयोध्या के कथावाचक पंडित दुर्गेश तिवारी महाराज ने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा, ऐसी कथा है जो जीवन के उद्देश्य एवं दिशा को दर्शाती है। इसलिए जहां भी श्रीमद्भागवत की कथा होती है वहां पहुँचकर कथा को सुनकर आत्मसाद करना चाहिए। इसे सुनने मात्र से वहां का संपूर्ण क्षेत्र दुष्ट प्रवृत्तियों से खत्म होकर सकारात्मक उर्जा से सशक्त हो जाता है।उन्होंने कहा कि कथा की सार्थकता तभी सिद्ध होती है, जब इसे हम अपने जीवन और व्यवहार में धारण करें। श्रीमद्भागवत कथा के श्रावण से जन्म जन्मांतर के विकार नष्ट होकर प्राणी मात्र का लौकिक व आध्यात्मिक विकास होता है। इस अवसर पर कथा व्यास के साथ पंडित कपिल तिवारी, पंडित अमन तिवारी, सहित ननकऊ, अजय तिवारी, गोपाल आदि की उपस्थिति रहे।
रिपोर्ट – अजय तिवारी
5178
आपकी राय

क्या आप बाराबंकी के मौजूदा भाजपा सांसद उपेन्द्र सिंह रावत की कार्यशैली से संतुष्ट है?

और पढ़ें